सोलर पैनल से जुडी 4 ग़लतफ़हमी के बारे में जानें

Photo of author

Written by Rohit Kumar

verified_75

Published on

सोलर पैनल से जुडी 4 ग़लतफ़हमी के बारे में जानें
सोलर पैनल

वर्तमान समय में सौर पैनलों के माध्यम से सौर ऊर्जा का उपयोग करना सबसे बेस्ट विकल्प माना जाता है, क्योंकि यह एक नवीकरणीय ऊर्जा स्रोत है। जिससे न केवल बिजली बिलों में कमी आती है बल्कि पर्यावरण को प्रदूषित होने से भी बचाता है. ये एक स्वच्छ और हरित ऊर्जा स्रोत है. लेकिन कई बार लोगों के मन में सोलर पैनल के बारे में बहुत सी गलतफहमियां होती हैं जो लोगों को उन्हें इन्स्टॉल करने से रोक सकती हैं। तो आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपको सोलर पैनल से जुड़ी 4 गलतफमियों के बारे में बताने वाले है.

सोलर पैनल से जुड़ी 4 आम गलतफहमियां

यहां 4 आम गलतफहमियां हैं और उनके बारे में सच्चाई क्या है जानें-

1. क्या सौर पैनल केवल सीधी धूप में ही काम करते हैं?

Earthnewj से अब व्हाट्सप्प पर जुड़ें, क्लिक करें

सोलर पैनल से जुड़ी सबसे बड़ी गलतफहमी ये है कि वे केवल सीधी धूप में ही काम करते हैं और बादल, बारिश के मौसम में बिजली का उत्पादन नहीं करते हैं. ये सोच पूरी तरह से गलत है. यदि आप ऐसे क्षेत्र में रहते हैं जहां कम धूप है, तो आप अभी भी सोलर पैनल से लाभ उठा सकते हैं. 2021 के बाद से ऐसे सोलर पैनलों का निर्माण किया गया जो बादल या बारिश के मौसम में भी ऊर्जा पैदा कर सकते है. इन सोलर पैनलों में हाफ-कट सेल और पॉलीक्रिस्टलाइन सिलिकॉन जैसी अत्याधुनिक तकनीकों का इस्तेमाल होता है। जिससे कम रोशनी में भी पैनल ऊर्जा का 20-30% तक उत्पादन हो सकता है.

2. क्या कम धूप सौर पैनल के प्रदर्शन को कम करती है?

यह सच है कि कम रोशनी में सौर पैनलों का प्रदर्शन कम हो जाता है, लेकिन यह गलत धारणा है कि वे अप्रभावी हो जाते हैं। आधुनिक सौर पैनल, तकनीकी प्रगति के कारण, बादलों और बारिश जैसी कम रोशनी वाली परिस्थितियों में भी काफी ऊर्जा पैदा कर सकते हैं। पैनलों का तापमान उनके प्रदर्शन को धूप की मात्रा से अधिक प्रभावित करता है। जब तापमान बढ़ता है, तो अवशोषित ऊर्जा का कुछ हिस्सा गर्मी के रूप में खो जाता है, जिससे ऊर्जा उत्पादन क्षमता कम हो जाती है।

बाइफेशियल सोलर पैनल दोनों तरफ से सूर्य की रोशनी को अवशोषित करने में सक्षम होते हैं, जिससे उन्हें पारंपरिक पैनलों की तुलना में अधिक ऊर्जा उत्पन्न करने की अनुमति मिलती है। यह विशेषता उन्हें विभिन्न मौसम स्थितियों से निपटने में अधिक कुशल बनाती है। कोशिकाओं के बीच अंतर: कोशिकाओं के बीच थोड़ा सा अंतर प्रकाश उपयोग को बढ़ाता है और अत्यधिक तापमान वृद्धि को रोकता है।

सोलर पैनल इन्स्टॉल करते समय, उनकी संरचना और स्थापना की ऊंचाई पर विशेष ध्यान देना चाहिए। पैनलों को खुली संरचनाओं पर रखने से तापमान अत्यधिक बढ़ सकता है, जिससे उनकी क्षमता कम हो जाती है। इसलिए, अधिकतम ऊर्जा उत्पादन सुनिश्चित करने के लिए जमीन या छत के स्तर से 2 से 2.5 फीट ऊपर पैनल लगाए जाने चाहिए।

Also Read5-best-tips-to-choose-the-best-solar-panel

सोलर पैनल को इंस्टाल करने से पूर्व इन 5 टिप्स को जरूर जान लें

3. क्या सौर पैनल चलाने के लिए बिजली की आवश्यकता होती है?

सौर पैनल के बारे में एक आम गलतफहमी यह है की वे केवल तभी काम करती हैं जब बिजली उपलब्ध हो। सौर पैनल दो प्रकार के होते हैं: ग्रिड-टाईड और ऑफ-ग्रिड। ग्रिड-टाईड पैनल ग्रिड से जुड़े होते हैं और अतिरिक्त बिजली को ग्रिड में वापस भेजते हैं। ऑफ-ग्रिड पैनल बैटरी में बिजली जमा करते हैं जिसका उपयोग रात में या बिजली जाने पर किया जा सकता है। ये उन जगहों के लिए उपयोगी है जो दूरदराज के क्षेत्रों में रहते है और जहां ग्रिड कनेक्शन उपलब्ध नहीं है.

सौर पैनलों की ऊर्जा उत्पादन क्षमता सूर्य की रोशनी की तीव्रता और उनके अवशोषण क्षमता पर निर्भर करती है। यह एक गलतफहमी है कि सौर पैनल केवल गर्म और धूप वाले क्षेत्रों में ही प्रभावी होते हैं। वर्तमान समय में सौर पैनल उच्च दक्षता और द्वि-मुखी तकनीक से युक्त होते हैं जो उन्हें कम रोशनी और बादल जैसी परिस्थितियों में भी बिजली उत्पन्न करने में सक्षम बनाते हैं।

4. क्या सौर पैनल केवल धनी लोगों के लिए हैं?

सोलर पैनल को लेकर एक और गलतफहमी ये भी हैं कि सोलर सिस्टम केवल धनी लोगों के लिए है. हालांकि ये सोलर सिस्टम पहले थोड़े महंगे लगते है, समय के साथ -साथ निवेश का पैसा वापिस भी आ जाता है. अब सोलर पैनलों को बढ़ावा देने के लिए सरकार सब्सिडी दी रही है, जिससे उनकी कीमत काफी कम हो गई है. यह कहना गलत होगा कि सोलर पैनल सिस्टम केवल अमीरों के लिए हैं। सच तो यह है कि, कई मध्यम आय वाले परिवार भी अब सौर ऊर्जा का लाभ उठा सकते हैं।

यह सच है कि सौर पैनल सिस्टम में शुरुआती निवेश थोड़ा ज़्यादा होता है। लेकिन, यह निवेश कई तरह से फायदेमंद होता है: जैसे -सौर पैनल लगाकर आप अपनी जरूरत के अनुसार बिजली उत्पन्न कर सकते है उसके लिए आपको बिजली कंपनी पर निर्भर नहीं होना होगा. जैसे-जैसे जीवाश्म ईंधन की कीमतें बढ़ती जा रही हैं, सौर ऊर्जा आपको ऊर्जा लागत में वृद्धि से बचाने में मदद कर सकती है।

आज की दुनिया में ऊर्जा उपयोग के लिए सौर पैनल सबसे बढ़िया विकल्प हैं। वे कुशल, पर्यावरण के अनुकूल होते हैं और दीर्घकालिक बचत प्रदान करते हैं। सौर ऊर्जा के बारे में आम गलतफहमियों को दूर करना और सभी नागरिकों के लिए इसके लाभों को समझना आवश्यक है।

Also Readknow-vertical-bifacial-solar-panel-working-and-benifits

इंटरनेशनल लेवल के सोलर पैनल से ज्यादा फायदे पाए, बढ़िया बैकअप व कीमत को जाने

You might also like

Leave a Comment

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें